NAV VICHAR

TO ENLIGHTEN & IMPROVE THE SOCIETY

148 Posts

192 comments

MANOJ SRIVASTAVA


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

नामकरण पर बेवजह की राजनीति

Posted On: 4 Sep, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

शिक्षा का स्तर सुधारने वाला आदेश

Posted On: 26 Aug, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

यू पी बोर्ड : कुछ अनुत्तरित सवाल

Posted On: 17 Aug, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

मीडिया को अपनी ताकत दिखाने की जरुरत

Posted On: 15 Aug, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

1 Comment

देश के लिए फायदे का समझौता

Posted On: 9 Aug, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

Page 10 of 15« First...«89101112»...Last »

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा:

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

प्रिय श्री श्रीवास्तव जी, नमस्कार. पाकिस्तान इस्लाम पर आधारित एक धार्मिक राज्य है. धर्म भी ऐसा जो अन्यधर्मावलम्बियों को काफिर कहता है और उनको क़त्ल करके उनके विरुद्ध जिहाद का आदेश देता है. पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्नाह ने कहा था इंदु और मुस्लिम दो अलग अलग क़ौमें हैं.जो साथ साथ नहीं रह सकतीं. जहां एक धर्म की ऐसी विचार धारा हो उससे क़यामत तक मेल मिलाप सम्भव नहीं है. समस्या पाकिस्तान को लेकर नहीं है बल्कि इस्लाम की वजह से है. राम जी को भी अंत में शस्त्र उठाना पड़ा था. , " विनय न मानत जलधि जड़, गए तीन दिन बीत, लक्षिमन बाण सम्हारिये भय बिन होय न प्रीत भारत को शक्तिशाली बनना पडेगा. . 'पाकिस्तान ताक़त की ही भाषा समझता है. अन्यथा यह संघर्ष अनंत काल तक चलता रहेगा.

के द्वारा:

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

जाति, धर्म व् वर्ग के हिमायती दर्शाकर राजनेताओं ने देश में जहर घोल दिया है Iआज स्थिति यह बन चुकी है कि कोई भी दल हिन्दू मुसलिम एकता की बात कर ले लेकिन न तो कोई मुसलमान और न ही कोई हिन्दू इसे दिल से स्वीकार कर पा रहा है बिलकुल इसी तरह से भले उच्च जाति का व्यक्ति दलित के साथ बैठकर चाय पी रहा हो लेकिन न तो दलित अपनी जाति को भुला पा रहा है और न ही उच्च जाति वाला अपनी जाति भुला पा रहा है Iकोई किसी भी राजनैतिक दल का समर्थक हो वो उक्त विचारों से मुक्त नहीं है I सत्ता के लालच व पद की मह्त्वाकांछा ने विभिन्न दल बना दिए और उन दलों के नेताओं ने केवल देश व् समाज में जहर बोने का ही काम किया है I माननीय श्रीवास्तव जी आपका अच्छा लेख Iसादर अभिवादन सहित

के द्वारा: atul61 atul61

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

जय श्री राम मनोज जी  अच्छी  भावनाओ के साथ लेख लिखा.देश की सरकार को अश्थिर करने के लिए विदेशी साजिस है ह्यदेरबाद सब पहुंचे सेकुलरो का तीर्थ स्थल बन गया मालदा,पुर्णीमा जहांबाद  में  कोइ  नई गया न बोला तमिलनाडू में ३ लडकियो ने  मेडिकल  में  आत्महत्या  कर दी कोइ नहीं बोला पुणे कर्णाटक  में  मुसलमान  हिन्दियो को मार देते  कोइ आवाज़ नहीं ये दलित मुस्लिम के में  नई  राजनीती  हो रही क्योंकि  कुछ प्रदेशो  में  चुनाव हो रहे  हो  केजरीवाल  ने  अभद्र  भाषा  में  सभी सीमाए  पार  कर दी.रोहित और उसके  साथियो ने याकूब मेनन की फांसी के विरोध  में  धरना प्रदर्शन  और मारपीट  की क्या  विश्वविद्यालय राष्ट्र  विरोधी  कार्यो  के  लिए  होता है.ये  विरोध  की  एक्सप्रेस चुनाव के वक़्त ही चलती है.

के द्वारा: rameshagarwal rameshagarwal

जय  श्री राम मनोज जी बहुत अच्छा और सार्थक लेख देश को बनाने के लिए देशवाशियो की भी भागीदारी होनी चाइये सरकार तो नीतियां बना सकती और ढांचा  बना सकटी ज़िम्मेदारी तो हमको निभाना है क्यों हम लाल सिग्नल को क्रॉस करते क्यों जहाँ मन हुआ पेशाब करदी थूक दिया और कूड़ा फेक देते  क्यों घर ऑफिस की सफाई पर ध्यान नहीं देते सरकारी बेबी समाया से और बिना घूस लिए क्यों काम करते क्यों अध्यापक पढ़ाते नहीं तनख्वाह खूब लेते और ट्यूशन करते क्यों महिलाओ पर हमला का विरोध नहीं करते या अभी गुर्गो की एक सड़क पर एक स्कूटर वाला दुर्घटना के बाद सड़क पर एक घंटे तक पड़ा रहा लोग आते जाते रहे कोइ मदद नहीं हम लोग इन्सानिअत भूल कर मत्लावी हो गए हम हमेश अधिकार की बात करते कर्तव्यों की नहीं ज़रुरत है हम खुद सुधरने की कोशिस करे हमने अमेरिका और पच्छिम के कई देशो में देखा की लोगो में स्वयं की अनुशासन की ज़रुरत है.लेख के लिए साधुवाद.क्या इस फोरम में हम लोग अपने कर्त्तव्य का निर्वाह कर रहे प्रतोक्रिया देने में कंजूसी क्यों?

के द्वारा: rameshagarwal rameshagarwal

जय श्री राम मनोज जी सुन्दर विचार जबसे मोदी जी आये  सेक्युलर ब्रिगेड की नीद उड़ गयी कांग्रेस वाले तो सोच ही नहीं सकते की वे भी सत्ता से दूर हो जाते केजरीवाल ने सारी सीमाए बेशर्मी की तोड़ दी आराजकता की राजनीती शुरू कर दी आज़म खान बोलता मुख्या मंत्री चुप परन्तु हिन्दू मंत्री को बोलने पर बर्खास्त कर दिया देश सबसे ज्यादा सहिष्णु है लेकिन मीडिया भी बड़ा चड़ा कर ब्रेकिंग न्यूज़ के नाम पर करता त्यागी, अय्यर ,केजरीवाल,लालू आज़म खान कांग्रेस को कोइ लगाम नहीं लगा सकता वीके सिंह जी ने साधारण व्यान दिया जबरदस्ती बबाल खड़ा किया देश आराजकता की तरफ बढ़ रहा  और मोदीजी बेकार में बदनाम हो रहे मुसलमान दामादो की तरह रहते है

के द्वारा: rameshagarwal rameshagarwal

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: atul61 atul61

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

1……….क्या आपने किसी अच्छे मुसलमान को किसी सार्वजनिक स्थल पर छबील लगा कर पानी पिलाते हुए देखा?? 2.......क्या आपने किसी प्राकृतिक आपदा या रेल दुर्घटना के समय किसी मुस्लिम संगठन या मुस्लिम विशेष को शारीरिक श्रम करते देखा...... 3.......क्या कभी कहीं किसी राहत कोष में इन्हें दान करते सुना??...... 4.......क्या कम से कम सहानुभूति प्रकट करते हुए भी देखा है??...... 5.......क्या किसी मुस्लिम ने ये कहा कि अमरनाथ में जो हुआ, वो निंदनीय है??..... 6.......क्या किसी मुस्लिम को आपने कभी भारत पाक़ के मैच में भारत की जीत पर पटाख़े फोड़ते देखा है??..... 7.......क्या आपने किसी मुस्लिम को कभी कारग़िल विजय का जश्न मनाते हुए देखा है??...... 8....क्या आपने कभी किसी मुस्लिम को किसी सामाजिक कार्य में सक्रिय देखा है??...... 09......क्या आपने किसी मुस्लिम की गाड़ी या बाईक पर तिरंगा या तिरंगे का स्टीकर देखा है? क्या कभी किसी मस्जिद-मदरसे में तिरंगा लहराते आपने देखा है???..... 10......क्या आपने किसी मुस्लिम को यह कहते हुए सुना कि निर्दोष जानवरों का मांस खाना मुझे पसंद नहीं??...... 11......क्या आपने किसी हस्पताल के इमरजैंसी रूम के सामने लगी भगवान की मूर्ती के सामने छुप कर भी अपने बच्चे की ज़िंदगी की दुआ मांगते हुए देखा?? जब कि हिंदू कब्र और मज़ारों पर सर पटकता मिल जाएगा..... 12......क्या आपने किसी को, जो मुस्लिम देशद्रोह के आरोप में पकड़े गए हैं, उनके खिलाफ़ किसी मुस्लिम को गवाही देते हुए देखा या सुना या जाना??.... 13.....क्या आपने किसी मौलवी को आतंकियों के खिलाफ़ फ़तवा ज़ारी करते या उनको प्रतिबंधित करते देखा??...... 14......क्या आपको किसी मुस्लिम नेता का ऐसा कोई सार्वजनिक भाषण याद है या सुना है जिसे सुनकर दिल में देशभक्ति के तूफ़ान उमड़ जाएं??..... फिर तथाकथित सेकुलरवाद का ढोंग हम लोग ही क्यों करते हैं? आपके जवाब की प्रतीक्षा में..... मदरसा मे तिरंगा क्यों नही लहराया जाता है ?? ****************************************** आपने कभी किसी मदरसे मे तिरंगा लहराते देखा है ???????????? अगर नहीं तो क्या ये हमारे तिरंगे और संबिधान का अपमान नही है ?? क्या तिरंगे का सम्मान करना मुस्लिमो का धर्म नही है ??????????? ये एक ऐसा सवाल है जिसका जबाब किसी के पास नही ...;.. मदरसों के Devlopment पे हर सियासी दल बात करता है यहाँ तक कि मदरसा मौलवी को सरकार से पैसा मिलता है लेकिन इसी मदरसे पे स्वंतंत्रता दिवस एवं गणतंत्र दिवस जैसे रास्ट्रीय पर्व पर भी तिरंगा नही लगाया जाता है ..जबकि मदरसा सरकारी पैसे से चलता है सरकार द्वारा चलाया जाता है क्यों ????????? क्यों ..????

के द्वारा:

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: Madan Mohan saxena Madan Mohan saxena

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: jlsingh jlsingh

के द्वारा: MANOJ KUMAR SRIVASTAVA MANOJ KUMAR SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ KUMAR SRIVASTAVA MANOJ KUMAR SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ KUMAR SRIVASTAVA MANOJ KUMAR SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: शालिनी कौशिक एडवोकेट शालिनी कौशिक एडवोकेट

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: pkdubey pkdubey

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA

के द्वारा: MANOJ SRIVASTAVA MANOJ SRIVASTAVA




latest from jagran